35.1 C
Uttar Pradesh
Thursday, June 20, 2024

केराकत थाना क्षेत्र में रविवार की रात में हुई मुठभेड़ मामले में कोर्ट ने एसपी से मांगा जवाब?

केराकत मुठभेड़ मामले में कोर्ट ने एसपी से मांगा जवाब?

जौनपुर, केराकत थाना क्षेत्र में रविवार की रात में हुई मुठभेड़ में आरोपी तस्करों के पैर में गोली मारने के मामले को कोर्ट ने संज्ञान में लिया है। अपर सिविल जज सीनियर डिवीजन प्रथम विवेक विक्रम ने पुलिस अधीक्षक से आख्या मांगी है। ऐसे मामलों में हत्या के प्रयास की धारा में संबंधित पुलिस कर्मियों पर भी केस दर्ज होना चाहिए। न्यायालय ने कहा है कि यदि मुठभेड़ में पुलिस आरोपी के पैर में गोली मारी गई है तो पुलिस पार्टी के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज होनी चाहिए। इसकी विवेचना अन्य जांच एजेंसी से कराया जाना चाहिए। कोर्ट ने कहा कि जिस हथियार से आरोपियों पर गोली चलाई गई, उस असलहे व खोखे को भी माल मुकदमाती के रूप में जमा कराएं। तीन मई को विवेचक थानाध्यक्ष कोर्ट में व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होकर आख्या प्रस्तुत करें। आरोपियों को भी जिला कारागार से लाकर कोर्ट में पेश किया जाए। आदेश का पालन न होने की दशा में प्रकरण को उच्च न्यायालय इलाहाबाद भेजा जाएगा। केराकत थाना क्षेत्र के मुफ्तीगंज पसेवां संपर्क मार्ग पर रविवार की रात पिकअप वाहन पर सवार गोवंश तस्करों व पुलिस की मुठभेड़ में दोनों तरफ से गोलियां चली थीं। आजमगढ़ का आरोपी समीउल्लाह व सरायख्वाजा के अरमान के पैर में गोली लगी। इसके अलावा फरहान व जीशान को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया। आरोपी के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुआ। चारों आरोपियों को पुलिस ने मौके पर ही गिरफ्तार कर लिया और कोर्ट में पेश किया। 14 दिन के रिमांड की मांग भी की गई। कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइंस का हवाला दिया, जिसमें एनकाउंटर के मामलों की निष्पक्ष जांच संबंधी 16 दिशा-निर्देश दिए गए हैं।

ताजा खबर
सम्बंधित खबर

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें